प्रधानमंत्री किसान मानधन योजना

प्रधानमंत्री किसान मानधन योजना

देश के प्रधानमंत्री, श्री नरेंद्र मोदी ने देश के गरीब किसानों के लिए एक सामाजिक सुरक्षा योजना शुरू की है। जिसके फलस्वरूप किसानों को 60 वर्ष की उम्र के पश्चात, हर महीने ₹3000 की आर्थिक सहायता दी जाएगी, जिसका उपयोग वह अपनी कृषि की ज़रूरतों या अन्य आवश्यकताओं को पूरा करने में कर सकते हैं। इस योजना के लिए पंजीकरण 9 अगस्त, 2019 से शुरू हो जाएंगे।

प्रधानमंत्री किसान मानधन योजना क्या है?

यह योजना लघु और सीमांत किसानों (SMF) को वृद्धावस्था व सामाजिक सुरक्षा देने के लिए शुरू की गई है। ऐसे किसान जिनकी आयु 18 से 40 वर्ष है और उनकी भूमि 2 हेक्टेयर से अधिक नहीं है, इस योजना का लाभ उठा सकेंगे। इस योजना का लाभ उठाने वाले किसानों का नामांकन सूची 1 अगस्त 2019 तक पंजीकृत राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों के भूमि रिकॉर्ड सूची में शामिल होना चाहिए। वह किसान इस स्कीम का लाभ उठा सकेंगेI
योजना के तहत किसान की आयु 60 वर्ष होने के बाद, उसे ₹3000 प्रतिमाह पेंशन दी जाएगीI यदि किसी कारण वश किसान की मृत्यु हो जाती है। तो उसके जीवन साथी केवल पति या पत्नी को उसकी पेंशन का आधा भाग दिया जाएगा।

इस योजना के पत्र किसान को जिसकी आयु 18 से 40 वर्ष तक है, इसमें नामांकन कर सकते हैं। उसे हर माह रुपए 55 से रुपए 200 तक जमा करवाने होंगे। उसे हर माह कितने रुपए देने होंगे इसका निर्धारण उसकी आयु के आधार पर किया जाएगा, तथा यह धनराशि उसे प्रत्येक माह जमा करवानी होगी, और ऐसा उसे 60 वर्ष की आयु तक करना होगा।

प्रधानमंत्री किसान मानधन योजना का लाभ कौन उठा सकते हैं?

इस योजना का लाभ छोटे व सीमांत किसान Small and Marginal farmers (SMF) उठा सकते हैं। ऐसे किसानों के पास कृषि भूमि 2 हेक्टेयर से अधिक नहीं होनी चाहिएI ऐसे किसान प्रधानमंत्री मान धन योजना के पात्र होंगे।

प्रधानमंत्री किसान मानधन योजना का लाभ किसे नहीं मिलेगा?

ऐसे छोटे व सीमांत किसान जो अन्य सामाजिक सुरक्षा योजना का लाभ ले रहे हैं जैसे; राष्ट्रीय पेंशन योजना (NPS) कर्मचारी राज्य बीमा निगम योजना, कर्मचारी कोष संगठन योजना या वे किसान जो प्रधानमंत्री श्रमयोगी योजना और प्रधानमंत्री वयवंदन योजना द्वारा पहले से लाभान्वित हैं।

इनके अलावा जिन लोगों की आर्थिक स्थिति अच्छी है। वह भी इसके पात्र नहीं होंगे, इनके अंतर्गत वे लोग जो संवैधानिक पदों पर पहले थे, या अब जो लोग आसीन हैं। पूर्व व वर्तमान राज्य मंत्री लोकसभा, राज्य सभा मंत्री राज्य विधान सभा, विधान परिषदों के पूर्व व वर्तमान सदस्य, नगर निगमों के पूर्व व वर्तमान मेयर, जिला पंचायतों के पूर्व व वर्तमान सदस्य, केंद्रीय या राज्य सरकार के कार्यालयों में कार्य कर रहे लोग, इस योजना के पात्र नहीं होंगे। इस सूची में मल्टी टास्किंग स्टाफ, ग्रुप डी स्टाफ व चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी शामिल नहीं होंगेI वे इस स्कीम का लाभ ले सकेंगे।

विशेषताएँ

इस स्कीम में पत्र व्यक्ति जितने पैसे जमा करेगा उसके बराबर राशि सरकार द्वारा भी जमा की जाएगी, तथा उसकी आयु 60 वर्ष होने के बाद प्रतिमाह ₹3000 पेंशन दी जाएगी।

योजना से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण जानकारियाँ

1. पेंशन प्राप्त करता की मृत्यु होने पर पेंशन प्राप्त करता की मृत्यु हो जाने पर उसके जीवन साथी पति या पत्नी जो भी जीवित रहता है, को उसकी पेंशन का आधा भाग 50% मिलना शुरू हो जाएगाIअगर वह व्यक्ति 60 वर्ष की उम्र से पहले ही मृत्यु को प्राप्त हो जाता है, तो भी उसका जीवन साथी इस स्कीम को जारी रख सकता है, या फिर स्वयं द्वारा जमा की गई राशि को ब्याज सहित प्राप्त कर सकता है।

2. स्कीम धारक के विकलांग होने पर अगर कोई ग्राहक नियमित रूप से राशि जमा करा रहा है। परंतु बीच में वह दुर्भाग्य से अक्षम हो जाता है, और पैसे जमा नहीं कर पाता तो उस स्थिति में उसका जीवन साथी स्कीम को जारी रख सकता है, या वह इसे बंद करना चाहे तो वह स्वयं द्वारा जमा की गई राशि ब्याज सहित वापस निकाल सकता है। और स्कीम को वहीं पर छोड़ सकता है।

3. पेंशन योजना बीच में छोड़ने पर अगर कोई पात्र व्यक्ति ग्राहक 60 वर्ष की आयु से पहले ही स्कीम छोड़ना चाहता है तो, उसे उसके द्वारा जमा की गई राशि ब्याज सहित वापस कर दी जाएगी।

आवेदन करने का तरीका

योजना के लिए पात्र व्यक्ति को निकटतम कॉमन सर्विस सेंटर CSC जाना होगा। आवेदन करने वाले व्यक्ति के पास आधार कार्ड और बैंक की पास बुक का होना अनिवार्य है, जिस पर आईएफएससी कोड अंकित होना आवश्यक है। प्रारंभ में जमा की जाने वाली राशि, ग्रामीण स्तर पर कार्यरत VLC कार्यकर्ता को नगद दी जाएगी।

VLC कार्यकर्ता आपका बैंक खाता विवरण, मोबाइल नंबर, ईमेल, पता पति व पत्नी का नाम आदि विवरण भरकर पंजीकरण करेगा। पंजीकरण करने पर आपको हर महीने भरने वाली राशि जो कि ₹55 से ₹200 तक है, आपको बता दी जाएगी। जमा की जाने वाली राशि की गणना आपकी आयु के अनुसार होगी, यह राशि आपको हर महीने भरनी होगी। इसके बाद डेबिट पर पत्र का प्रिंट निकाला जाएगा। इसके ऊपर पात्र व्यक्ति के हस्ताक्षर करके उसे फिर से स्कैन करके अप लोड किया जाएगा, तथा अंत में एक पेंशन खाता नंबर वन बन जाएगा, तथा उससे आपका किसान कार्ड छाप दिया जाएगा।

धन्यवाद

Scroll to Top
Send this to a friend