विश्व पर्यटन दिवस कब मनाया जाता है

विश्व पर्यटन दिवस कब मनाया जाता है World Tourism Day 27 September

प्राचीन समय से ही पर्यटन ने दुनिया को एक साथ जोड़ कर रखा है। घूमने फिरने से न केवल मन को प्रसन्नता मिलती है, बल्कि इससे देश का सामाजिक, सांस्कृतिक व आर्थिक विकास भी होता है। भारत की GDP में पर्यटन महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, तथा साथ ही साथ इससे करोड़ों लोगों को रोज़गार भी मिलता है। भारत के कई राज्यों में पर्यटन स्थल है।

भारत में 1950 में विश्व के 2.5 करोड़ पर्यटक आए थे, तथा 2015 में यह संख्या बढ़कर 120 करोड़ हो गई है। 1950 में पर्यटन से प्राप्त राजस्व 200 करोड़ डॉलर था। जो कि 2015 में 1260 ट्रिलियन डॉलर हो चुका है।

अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन दिवस की घोषणा कब की गई?

विश्व में पर्यटन के महत्व को देखते हुए संयुक्त राष्ट्र संघ ने 27 सितंबर, 1980 को विश्व पर्यटन दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया। इससे 10 वर्ष पहले 27 सितंबर के दिन विश्व पर्यटन संगठन का संविधान लागू किया गया था। पर्यटन 2030 के सतत विकास एजेंडा का 8, 12 और 14वाँ लक्ष्य है। 2015 में संयुक्त राष्ट्र महासभा के सत्र में बैठक के दौरान वर्ष 2017 को पर्यटन के विकास का वर्ष घोषित किया गया था। इसका लक्ष्य सतत विकास को बढ़ावा देना है ओर गरीबी का उन्मूलन करना है।

अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन दिवस का उद्देश्य और महत्व

नए स्थानों व संस्कृतियों को देखने की इच्छा से पर्यटन का विकास होता है। पर्यटन के द्वारा वैश्विक विकास को बढ़ावा देने के लिए अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन दिवस मनाया जाता है। इसका लक्ष्य लोगों को पर्यटन के सामाजिक, आर्थिक सांस्कृतिक व राजनीतिक महत्व को समझाना है। संयुक्त राष्ट्र के अनुमान के अनुसार पर्यटन का वैश्विक जीडीपी में 10% योगदान है, तथा हर 10 में से एक व्यक्ति रोज़गार के लिए पर्यटन से जुड़ा हुआ है।

विश्व पर्यटन दिवस 2020 की थीम

पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए हर वर्ष पर्यटन दिवस के लिए कोई टीम निर्धारित किया जाता है।

विश्व पर्यटन दिवस 2020 की थीम है – पर्यटन और ग्रामीण विकास “Tourism and Rural Development”

विश्व पर्यटन दिवस 2019 की थीम – पर्यटन और रोजगार सभी के लिए बेहतर भविष्य “Tourism and job a better future to all.

अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन दिवस किस प्रकार मनाया जाता है?

यूनाइटेड नेशन वर्ल्ड टूरिज्म ऑर्गेनाइजेशन UNWTO हर वर्ष किसी न किसी देश को टूरिज़्म दिवस मनाने के लिए चुनती है। 2019 में टूरिज़्म डे की मेजबानी भारत ने की थी। 2020 में इसकी मेजबानी के लिए पहली बार संयुक्त रूप से उरूग्वे, अर्जेंटीना, ब्राजील, पराग्वे और चिली देश को चुना गया है। भारत में इस अवसर पर राष्ट्रीय पर्यटन पुरस्कार दिए जाते हैं। इस अवसर पर देश में आंतरिक और बाह्य टूरिज़्म को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न परियोजनाएं बनाई जाती हैं। जिससे देश में राजस्व और रोजगार दोनों में बढ़ोतरी हो तथा देश की संस्कृति की छवी विश्व भर में फैले।

भारत में पर्यटन उद्योग की क्या स्थिति है?

भारत में हजारों साल पुराने ऐतिहासिक स्थल, संस्कृति, प्राकृतिक सौंदर्य है। जिस कारण दुनिया भर के लोग इस ओर आकर्षित होते हैं। भारत देश-विदेश के सैलानियों के लिए पसंदीदा जगह हैं। पिछले कुछ सालों से भारत में घरेलू व विदेशी पर्यटकों की संख्या लगातार बढ़ रही है।

विश्व यात्रा और पर्यटन परिषद के अनुसार भारतीय GDP में पर्यटन का योगदान 9.6% रहा है, जो कि वैश्विक GDP 9.8% के बहुत करीब है। साल 2014-15 में 77 लाख 70 हजार विदेशी पर्यटक भारत आए थे। जिससे एक लाख 20 करोड रुपए की आमदनी हुई थी। इसके बाद 2016 में 88 लाख 90 हजार सैलानी भारत आए, जो कि पहले से 10.7% ज्यादा थे। 2018 में भारत भ्रमण के लिए एक करोड़ 56 लाख विदेशी पर्यटक आए। 2027 तक पर्यटन से 440 बिलियन अमेरिकी डॉलर के मुनाफ़े की उम्मीद की जा रही है, जो कि जीडीपी का 10% होगा।

भारत में पर्यटन रोज़गार का प्रमुख जरिया है। 2017 में कुल रोज़गार का 8% हिस्सा पर्यटन उद्योग का था। जिसमें चार करोड़ लोगों को रोज़गार मिला। वर्ष 2028 तक यह संख्या 5 करोड़ 20 लाख से अधिक होने का लक्ष्य है।

भारत में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए क्या कदम उठाए जा रहे हैं?

भारत में पर्यटन उद्योग को बढ़ावा देने के लिए तथा रोज़गार निर्माण के लिए 2002 में राष्ट्रीय पर्यटन नीति बनाई गई थी। पिछले कुछ वर्षों में इस नीति में काफी बदलाव किए गए हैं। जिससे पर्यटन उद्योग को और बढ़ावा मिला है। 2014 में सरकार ने स्वदेश दर्शन और प्रसाद योजना के तहत थीम व धार्मिक स्थलों को चुना था। इससे 4.7%  विदेशी मुद्रा की बढ़ोतरी हुई है।

पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने GST कि दर कम की है, तथा वीजा फीस को भी कम किया है। इसके अलावा पर्यटन के लिए विज्ञापन को भी बढ़ावा देने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं, तथा पर्यटन क्षेत्रों के रखरखाव पर पूरा ध्यान दिया जा रहा है। केंद्रीय सरकार ने राज्य सरकारों को अपने राज्य में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए विशेष निर्देश दिए हैं। अक्टूबर 2018 में सरदार वल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा स्टैचू ऑफ यूनिटी का उदघाटन किया गया। देश में पर्यटकों की सुरक्षा के लिए टूरिज़्म पुलिस की तैनाती की गई है। वीजा की सुविधा को बढ़ावा दिया गया है।  भारत में सस्ते इलाज के लिए भी विदेशी लोग आते हैं। इसका लक्ष्य 2025 तक विश्व पर्यटकों का 2% भारत लाने की योजना है।

भारतीय पर्यटकों के लिए थीम

पर्यटकों को लुभाने के लिए उनकी रूचि के अनुसार अलग-अलग थीम बनाए गए हैं। भारत में आयुर्वेद योगा अध्यात्म और प्राचीन थेरेपी बहुत विकसित है। इनकी सहायता से भी पर्यटन में काफी विकास हुआ है। भारत के प्रधानमंत्री ने भारतीय पर्यटकों के लिए स्वदेश दर्शन के लिए भी थीम रखे हैं, जो कि इस प्रकार हैं। इनमें तटीय स्थल, मरुस्थलीय स्थल, पर्यावरणीय स्थल, हिमालय हेरिटेज, कृष्णा, नॉर्थ ईस्ट, रामायण, अध्यात्म, बुद्धिस्ट, ग्रामीण,  तीरथ यात्रा, वाइल्ड लाइफ, पर्वतारोहण के लिए भारत सरकार ने हिमालय की 15 चोटियों को खोला है, तथा अन्य 137 चोटियों को खोलने का निर्णय लिया है, जिससे कि पर्यटकों का रुझान बढ़े।

भारत की ऐतिहासिक धरोहर

भारत में कई इमारतों स्मारकों के ऐतिहासिक महत्व को देखते हुए यूनेस्को ने इन्हें विश्व धरोहरों में शामिल किया है।  इनमें अजंता एलोरा की गुफाएं, ताजमहल, आगरा का किला, कोणार्क सूर्य मंदिर, महाबलीपुरम के स्मारक, वन्यजीव अभ्यारण्य, काजीरंगा उद्यान, फतेहपुर सीकरी, खजुराहो के स्मारक, महान चल मंदिर, गोवा के चर्च, नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान, सुंदरवन उद्यान, सांची का बौद्ध स्तूप, कुतुब मीनार, हुमायूं का मकबरा, कालका शिमला रेलवे, नीलगिरी माउंटेन रेलवे, बोधगया का महाबोधि मंदिर, चंपारण पावागढ़ पुरातत्व उद्यान, मुंबई छत्रपति शिवाजी टर्मिनल, जयपुर का जंतर मंतर, लाल किला, चित्तौड़गढ़ का किला, सवाई माधोपुर, कुंभलगढ़, झालावाड़, भीमबेटका पाषाण आश्रम, जैसलमेर का किला, ग्रेट हिमालय राष्ट्रीय उद्यान, कंचनजंगा राष्ट्रीय उद्यान, नालंदा विश्वविद्यालय, चंडीगढ़ कैपिटल कंपलेक्स, आदि और भी कई ऐतिहासिक धरोहर हैं।

निष्कर्ष

पर्यटन मनुष्य को विश्व की सुंदरता देखने का अवसर देता है। दुनिया में परिवहन और दूर संचार के साधनों के विकास के साथ साथ पर्यटन का भी तेजी से विकास हुआ है, तथा पर्यटन के विकास से लोगों को रोज़गार के नए अवसर मिले हैं। जिससे उनकी आजीविका में बढ़ोतरी हुई है, तथा गरीबी का उन्मूलन हो रहा है। पर्यटन देश के सबसे महत्वपूर्ण आर्थिक क्षेत्रों में से एक है। इसीलिए प्रत्येक मनुष्य को पर्यटन के लिए जाना चाहिए, जिससे कि ज्ञान समझ और आनंद की प्राप्ति हो सके। अत: अब आपको ज्ञान हो गया होगा की विश्व पर्यटन दिवस कब मनाया जाता है और अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन दिवस का उद्देश्य और महत्व क्या है ।

धन्यवाद

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top
Send this to a friend